Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20…

Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: सर्दियों में ड्राई फ्रूट्स की मांग में वृद्धि देखना एक स्वास्थ्य-जागरूकता और सही आहार की दिशा में सकारात्मक परिवर्तन की ओर एक स्पष्ट संकेत है। शीतकाल में इन ड्राई फ्रूट्स का सेवन शरीर को गर्मी पहुंचाने और इम्युनिटी को बढ़ाने का एक सुझावपूर्ण तरीका है। ये आमतौर पर काजू, बादाम, किशमिश, और अखरोट के रूप में उपयोग होते हैं, जो सही मात्रा में खाए जाते हैं, इनकी कीमत अक्सर बहुत ज्यादा होती है. लेकिन देश में एक ऐसी जगह हैं जहां ये ड्राई फ्रूट्स, सब्जियों के दाम में मिल जाते हैं. आज हम आपको ऐसे दूकान के बारे में बताने वाले है जहाँ पर काजू, बादाम, किशमिश, और अखरोट जैसे ड्राई फ्रूट्स बहुत ही कम दामों में मिल जायेंगे-

🔥✅ ताज़ा जानकारी के लिए हमारे टेलीग्राम में जुड़े Click Here 
🔥 Whatsapp Click Here

काजू में मोनोआनसैचुरेटेड फैट, विटामिन, और खनिजों की अच्छी मात्रा होती है, जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करती हैं और इम्युनिटी को मजबूती प्रदान करती हैं। बादाम में विटामिन ई, प्रोटीन, फाइबर, और अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए उपयुक्त होते हैं और ठंड से बचाव करते हैं। किशमिश में फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट्स, और आवश्यक खनिज होते हैं जो शरीर की सुरक्षा में मदद करते हैं। अखरोट में ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, प्रोटीन, और फाइबर समाहित होते हैं, जो शरीर के लिए लाभकारी होते हैं।

इन ड्राई फ्रूट्स को सही मात्रा में और नियमित रूप से खाने से सरीर में ऊर्जा का स्तर बना रहता है और ठंड से बचाव के लिए शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता में सुधार होती है। ध्यान रखें कि इन्हें अधिक मात्रा में नहीं, बल्कि सावधानीपूर्वक और संतुलित रूप से खाना चाहिए।

Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: सबसे सस्ता ड्राई फ़ुट बाज़ार-

Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20...
Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20…

भारत में सबसे सस्ते ड्राई फूट झारखंड राज्य में बेचे जाते हैं। झारखंड के जामताड़ा जिले को काजू नगरी के नाम से भी जाना जाता है। झारखंड में काजू की खेती बड़ी मात्रा में होती है. हर साल हजारों टन काजू के उत्पादन के कारण यहां ड्राईफूट (Dryfoot) की कीमत प्रीमियम पर रहती है।

बाजार में काजू-बादाम की कीमत 900 से 1000 रुपये प्रति किलोग्राम है. लेकिन झारखंड के इस जिले में यह आपको 100 रुपये के अंदर बिकता हुआ मिल जाएगा.

हम बात कर रहे हैं जामताड़ा की. भले ही आपने इसका नाम ऑनलाइन स्कैम के लिए सुना हो। लेकिन जामताड़ा सस्ते काजू और बादाम के लिए भी जाना जाता है. इसे काजू नगरी भी कहा जाता है। यहां हर साल हजारों टन काजू का उत्पादन होता है।

यह भी पढ़े- Letest woolen kurtis for ladies: आपकी सोच से भी सस्ते मिलेंगे सर्दियों के लिए आउटफिट्स, वुलन कुर्ती मात्र 200 रुपये से शुरू

Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: यहाँ काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश रुपये के दाम में मिलता है-

Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20...
Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20…

जामताड़ा में जो बादाम 1000 रुपये प्रति किलो है वो आपको 40 रुपये प्रति किलो में मिलेंगे. वहीं, जो काजू 900 रुपये प्रति किलो के दाम पर मिलता है, वह आपको 30 रुपये प्रति किलो के हिसाब से मिलेगा, ध्यान दें कि सस्ते ड्राई फ्रूट्स की गुणवत्ता भी महत्वपूर्ण है, इसलिए सावधानीपूर्वक उन्हें खरीदते समय उनकी गुणवत्ता की जांच करें।

जामताड़ा में काजू-बादाम सस्ते मिलने का कारण इसकी उपज है। जामताड़ा के एक गांव में करीब 50 एकड़ जमीन पर काजू की खेती होती है. यहां काजू के बड़े-बड़े बागान हैं। झारखंड के दुमका में काजू की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है| 

Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: जामताड़ा में काजू बादाम सस्ते क्यों मिलते हैं-

Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20...
Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20…

जामताड़ा के नाला गांव में करीब 50 एकड़ जमीन पर काजू की खेती होती है. यहां काजू के बड़े-बड़े बागान हैं। इसके चलते बागवान सूखे मेवे बहुत सस्ते दाम पर बेचते हैं. काजू की खेती झारखंड की उपराजधानी दुमका में भी की जाती है. इसके अलावा संथाल परगना जिले में काजू की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है. यहां की जलवायु और मिट्टी काजू की खेती के लिए उपयुक्त है। हालाँकि, किसानों को उपज का उचित मूल्य नहीं मिलता है। इसके अलावा क्षेत्र में कोई प्रोसेसिंग प्लांट भी नहीं है, जिससे ग्रामीण खेती से अधिक मुनाफा नहीं कमा पा रहे हैं।

यह भी पढ़े- SBI Clerk Naukari : SBI क्लर्क के पदों पर निकली शानदार बहाली, बेरोजगारों की लगी लॉटरी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment