Employees Pension Rules Changes : कर्मचारियों के पेंशन के नियम में हुआ बदलाव, जानिए अपडेट

Employees Pension Rules Changes :अगर आप एक सरकारी कर्मचारी हैं तो यह खबर आपके लिए एक बहुत बड़ी खबर होने वाली है क्योंकि नए साल के दूसरे दिन केंद्र सरकार ने पेंशन से जुड़े नियम में बदलाव किया है, सरकारी कर्मचारी के मृत्यु के बाद पेंशन पति या पत्नी को मिलती थी लेकिन अब नियम में सरकार बदलाव कर दी है जिसके बारे में हर कर्मचारियों को जानना जरूरी है.

नए साल के दूसरे दिन सरकार ने कर्मचारियों के पेंशन से जुड़े नियम में कुछ बदलाव किए हैं आप सभी को बता दे की पहले किसी भी कर्मचारी के मरने के बाद उसके पति या पत्नी को पारिवारिक पेंशन दिया जाता था लेकिन अब इस नियम में बदलाव करके अपने बच्चों को पारिवारिक पेंशन के लिए नॉमिनेट करने का ऐलान किया है. इसका फायदा उन लोगों को मिलेगा जिन्हें पति और पत्नी के बीच आपसी संबंध अच्छे नहीं है.

इस समय कर्मचारियों के क्या है नियम?

इस समय कर्मचारियों के पेंशन का नियम थोड़ा अलग है, इस समय कर्मचारी और पेंशन भोगियों के मृत्यु के बाद पति या पत्नी को दिया जाता है, इसके बाद ही बच्चे एवं परिवार के अन्य सदस्य पारिवारिक पेंशन के लिए पात्र होते हैं। ये तब ही लागू होता है जब मृतक सरकारी कर्मचारी/पेंशनभोगी के पति या पत्नी पारिवारिक पेंशन के लिए अपात्र होते हैं या उनकी मृत्यु हो जाती है। लेकिन अब इस नियम में बदलाव कर दिया गया है.

7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों को नए साल में 2 तोहफा,महंगाई भत्ते में जोरदार बढ़ोतरी

नए नियम का लाभ किसे और किन परिस्थितियों में मिलेगी?

जानकारी के लिए आप सभी को बता दे की सरकार द्वारा जारी की गई पेंशन के नए नियम के अनुसार यदि किसी भी सरकारी कर्मचारियों को अपने पति और पत्नी में आपसी विवाद चलता है या आपसी विवाद के चलते पति और पत्नी में तलाक हो गई है तो ऐसे में मृत्यु के बाद अब उनके बच्चे को पारिवारिक पेंशन दिया जाएगा. लेकिन सरकार ने इस नियम के लिए कुछ शर्तें निर्धारित की है.

जहां मृत सरकारी महिला कर्मचारी/महिला पेंशनभोगी के परिवार में अवयस्क बच्चे/बच्चों के साथ विधुर या मानसिक विकार या दिव्‍यांगता से पीड़ित बच्चा/बच्चे हैं, पारिवारिक पेंशन पति को देय है, बशर्ते कि वह ऐसे बच्चे/बच्चों का अभिभावक हो।

अगर विधुर ऐसे बच्चे/बच्चों का अभिभावक नहीं रह जाता है, ऐसी स्थिति में पारिवारिक पेंशन उस व्यक्ति के माध्यम से बच्चे को देय होगी जो ऐसे बच्चे/बच्चों का वास्तविक अभिभावक है। जहां नाबालिग बच्चा, वयस्क होने के बाद, पारिवारिक पेंशन के लिए पात्र होगा, ऐसे बच्चे को पारिवारिक पेंशन उस तारीख से देय होगी जिस दिन वह वयस्क हो जाएगा।

इस रूप में, सरकार द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार, मृत महिला कर्मचारी/महिला पेंशनभोगी के परिवार के सभी सदस्यों को उचित पेंशन लाभ मिलेगा।

New Year rule change : नए साल के पहले दिन 5 नियम बदले, सभी को जानना बेहद जरूरी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment