Himachal Pradesh Viral News: भारत का ऐसा गांव जहां राक्षसों के डर से महिलाये नहीं पहनती कपड़े

Himachal Pradesh Viral News: जिंदगी को सही तरीके से जीने के लिए कुछ नियमों और परंपराओं को ध्यान में रखना होता है हम अपने रोजमर्रा की जिंदगी में हर रोज अपने नियम और कानून से ही कार्य करते हैं, और परंपराओं का पालन करना भी बहुत ही महत्वपूर्ण है इस दुनिया में ऐसे बहुत से अनूठे नियम कानून और परंपराएं हैं जिसे लोगों को निभाने पड़ते हैं चाहे महिला हो या पुरुष दोनों को कुछ रस्मों को निभाना पड़ता है, वहीं अगर कुछ पुराने परंपराओं की बात करें तो आज भी ऐसे कई लोग हैं जो वर्षों से चली आई परंपराओं को मानते हैं और निभाते भी हैं इसी बीच हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी के पीढ़ी गांव में एक ऐसी अनोखी परंपरा है जहां पर महिलाएं और पुरुष दोनों लोग साल के 5 दिनों तक बिना वस्त्र के रहते है, जी हां आपने बिल्कुल सही सुना यहां भी अजीबोगरीब परंपराएं हैं जिसे लोग आज भी मानते हैं और पूरे श्रद्धा भाव से इस परंपरा को निभाते हैं लेकिन लोगों का यह कहना है कि इस परंपरा को मानने और निभाने के पीछे कुछ अलग ही कारण है इसके बारे में आज के इस लेख में हम जानेंगे, तो चलिए जानते हैं हिमाचल प्रदेश के इस अनोखे परंपरा के बारे में

हिमाचल प्रदेश की मणिकर्ण घाटी के पिणी गांव में, एक अद्भुत परंपरा है जो आज भी जीवंत है। यहां की महिलाएं सदियों से कपड़े नहीं पहनती हैं, जिससे उनकी विशेष पहचान बनी है। इस परंपरा के अनुसार, महिलाओं को साल में पांच दिन ऐसा करना पड़ता है जब वे विशेष रूप से कपड़े नहीं पहन सकतीं हैं, इस समय में, गांव के पुरुषों को भी कड़े नियमों का पालन करना होता है, जिसमें मांस और शराब से बचाव होता है।

Himachal Pradesh Viral News: बर्षो से चली आ रही है यह परंपरा-

Himachal Pradesh Viral News: भारत का ऐसा गांव जहां राक्षसों के डर से महिलाये नहीं पहनती कपड़े
Himachal Pradesh Viral News: भारत का ऐसा गांव जहां राक्षसों के डर से महिलाये नहीं पहनती कपड़े

महिलाओं के कपड़े न पहनने की परंपरा का दिलचस्प इतिहास पीणी गांव में है। हालांकि, इन खास पांच दिनों में ज्यादातर महिलाएं घर से बाहर नहीं निकलती हैं। कुछ महिलाएं आज भी इस परंपरा को पहले की तरह निभाती हैं। पीणी गांव की महिलाएं हर साल सावन के महीने में पांच दिन तक कपड़े नहीं पहनती हैं।

ऐसा कहा जाता है कि जो महिला इस परंपरा का पालन नहीं करती उसे कुछ ही दिनों में बुरी खबर मिलती है। इस दौरान पूरे गांव में पति-पत्नी एक-दूसरे से बात भी नहीं करते हैं। पांच दिनों तक पति-पत्नी एक-दूसरे से बिल्कुल अलग रहते हैं। पीणी गांव की महिलाओं की साल में पांच दिन कपड़े न पहनने की परंपरा उनकी सुरक्षा से जुड़ी है।

यह भी पढ़े- Tamatar Lal Kyu Hota Hai: क्या आपने कभी सोचा है कि टमाटर लाल, मिर्च हरी और मूली सफेद क्यों होती है?

Himachal Pradesh Viral News: पुरुषों भी निभाते है ये परम्परा-

Himachal Pradesh Viral News: भारत का ऐसा गांव जहां राक्षसों के डर से महिलाये नहीं पहनती कपड़े
Himachal Pradesh Viral News: भारत का ऐसा गांव जहां राक्षसों के डर से महिलाये नहीं पहनती कपड़े

इस परंपरा में पुरुषों को महिलाओं का साथ देना जरूरी है। लेकिन उनके लिए कुछ अलग नियम बनाए गए हैं. सावन के इन पांच दिनों में पुरुषों को मांस और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

ऐसा कहा जाता है कि यदि कोई व्यक्ति नियमों का पालन नहीं करता है, तो देवता नाराज हो जाते हैं। देवता न केवल क्रोधित होंगे, बल्कि कष्ट अवश्य भोगेंगे। यहाँ तक कि पति-पत्‍नी सावन के इन अनूठे पांच दिनों में एक दूसरे को देखकर मुस्कुरा तक नहीं सकते।

Himachal Pradesh Viral News: क्‍यों शुरू की गई ये अजब परंपरा?

Himachal Pradesh Viral News: भारत का ऐसा गांव जहां राक्षसों के डर से महिलाये नहीं पहनती कपड़े
Himachal Pradesh Viral News: भारत का ऐसा गांव जहां राक्षसों के डर से महिलाये नहीं पहनती कपड़े

पीणी गांव के लोगों का कहना है कि बहुत समय पहले यहां राक्षसों ने बहुत आतंक मचाया था. बाद में एक देवता ‘लाहुआ घोंड’ पीणी गांव आये। भगवान ने उस राक्षस को मार डाला और पीणी गांव को राक्षसों से सुरक्षित रखा। कहा जाता है कि ये सभी राक्षस गांव की खूबसूरत कपड़े पहनने वाली शादीशुदा महिलाओं को उठा ले जाते थे।

देवताओं ने राक्षसों को मारकर स्त्रियों को इससे बचाया। तब से, देवताओं और राक्षसों के बीच युद्ध के पांच दिनों के दौरान महिलाओं के लिए कपड़े नहीं पहनने की प्रथा है।

ग्रामीणों का मानना ​​है कि आज भी अगर महिलाएं सुंदर दिखें तो राक्षस उन्हें उठा सकते हैं। इन पांच दिनों में पीणी गांव के पुरुष भी कड़े नियमों का पालन करते हैं। इस दौरान पिणी गांव की महिलाएं केवल ऊन से बना एक पटका पहन सकती हैं और इस उत्सव में बाहर के लोग शामिल नहीं हो है| 

यह भी पढ़े- Dry Fruit Ki Sabse Sasti Dukan: ये है ड्राई फ्रूट की सबसे सस्ती मार्केट! काजू ₹30, बादाम ₹40, किशमिश ₹20…

यह भी पढ़े- Winter Shopping: इस विंटर सीजन करनी है सस्ते और गर्म कपड़ों की शॉपिंग, तो यहाँ से 100 रुपए में खरीदें रजाई, जैकेट, शॉल, स्वेटर आदि

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment