झारखंड का पुराना नाम क्या है? Jharkhand Ka Purana Name Kya Hai?

झारखंड राज्य भारत के समृद्ध इतिहास और भूगोल से भरे हुए राज्यों में से एक है । झारखंड पूर्वी भारत में स्थित एक राज्य हैं,यह अपनी धरोहर और संस्कृति के लिए जाना जाता है। हमलोग आज इस पोस्ट में जानेंगे की Jharkhand Ka Purana Name Kya Hai

झारखंड का इतिहास (History of Jharkhand)

झारखंड का इतिहास बहुत ही पुराना  है। झारखंड राज्य में बहुत सारे राजा महाराजा हुए। झारखंड बिहार से  15 नवंबर 2000 को एक अलग राज्य के रूप में गठित हुआ। इस राज्य का इतिहास भारतीय सभ्यता के साथ गहरे संबंधों से जुड़ा हुआ है, और इसका पुराना नाम भी रहस्यमय रूप से भरा हुआ है।

झारखंड का पुराना नाम क्या है? Jharkhand Ka Purana Name Kya Hai?

झारखंड राज्य को प्राचीन में कई नामों से जाना जाता था इसका सबसे पुराना नाम “वनांचल” था। झारखंड राज्य को मुगल काल में ‘कुकरा’ नाम से जाना जाता था। अगर ब्रिटिश काल की बात करें तो इसे झारखंड नाम से जाना जाना जाता था। वनांचल का अर्थ है “वनों का देश” या “जंगलों का भूभाग” होता हैं । यह नाम इस राज्य के प्राकृतिक सौंदर्य और घने जंगलों और वातावरण को दर्शाता है। इस समय के लिए, वनांचल या झारखंड का एक बड़ा हिस्सा आज भी जंगलों से घिरा हुआ है, जिससे यहां का नाम प्राचीन समय में भी प्रचलित था।

विभिन्न युगों में झारखंड का नाम (Name of Jharkhand in Different Eras)

झारखंड के नाम के प्राचीन रूप का उल्लेख इसके इतिहास के विभिन्न युगों में मिलता है। कई शासकों और सम्राटों के शासनकाल में इसका नाम बदलता रहा है। प्राचीन काल में, इस भूमि को चंपारण राज्य के अंतर्गत रखा गया था और इसका नाम विभिन्न संस्कृतीय और प्राकृतिक धरोहरों के अनुसार रखा जाता था। झारखंड राज्य को गुप्त वंश के समय में “विजयगढ़” नाम से जाना जाता था। इसके बाद कई सांस्कृतिक सम्राटों के शासनकाल में झारखंड को अलग-अलग नामों से जाना जाता रहा है, जो कि विभिन्न लोकभाषाओं से जुड़े हुए हैं।

झारखंड का विकास (Development of Jharkhand)

झारखंड का विकास इसके भूगोल, जलवायु, और संसाधनों के कारण एक अनूठा रहा है। यह राज्य धरोहर, संस्कृति, और जीवनशैली के लिए प्रसिद्ध है। झारखंड के विकास में कृषि, उद्योग, और पर्यटन के क्षेत्र में बड़े परिवर्तन और उन्नति की गई है। इस राज्य में बॉक्साइट, अल्यूमिनियम, कोयला, तांबा, और सोने के खदानों का खजाना है,इस राज्य को कोयला नगरी के नाम से भी जाना जाता हैं,क्युकी यहाँ कोयला अधिक मात्र में पाया जाता है । इसके अलावा, यहां के घने जंगल, प्राकृतिक झीलें, और पहाड़ों की सुंदरता पर्यटकों को खींचता है। झारखंड राज्य प्राकृतिक सौन्दार्यों से भरा पड़ा हैं.

झारखंड की संस्कृति (Culture of Jharkhand)

झारखंड की संस्कृति उसके भूगोल, जलवायु, और लोगों के संबंध से भिन्नता और समृद्धि से भरी हुई है। यहां के लोग अपनी परंपरागत संस्कृति को गर्व से बचाते हैं और इसे समृद्ध करने के लिए समर्पित हैं। झारखंड के संस्कृति में गांवों के मेले, पर्वों के धूमधाम से भरा हुआ है। करमा,सरहुल,होली, दुर्गा पूजा, छठ पूजा, और सर्कियल नृत्य झारखंड की प्रसिद्ध परंपराएं हैं। लोकगीतों और लोकनृत्य का भी इस राज्य में विशेष महत्व है।

ये भी पढ़े- पलामू क्यों प्रसिद्ध है? Palamu Kyu Famous Hai?

झारखंड का भूगोल (Geography of Jharkhand)

झारखंड का भूगोल उसके समृद्ध धरोहर और सुंदर प्राकृतिक सौंदर्य से भरा हुआ है। झारखंड राज्य उच्च और घने जंगलों, बहुमूल्य वन्यजीवन, और नदी-नालों के संसाधनों से भरा पड़ा है। झारखंड के प्राकृतिक सौंदर्य को देखने के लिए सिमटी हुई नदियों, बड़े पहाड़ों, और प्राचीन झीलों का दौरा करना आनंददायक अनुभव होता है। अगर आपको समय मिले तो इस राज्य का भ्रमन जरुर करें,यहाँ के खूबसूरत वादियाँ आपकों मोह लेंगे,यहां के वन्यजीवन में बड़े संख्या में बाघ, सिंह, हाथी, वन्य बैल, और विभिन्न प्रकार के पक्षियों पायें जाते हैं.

झारखंड के प्रमुख स्थान ( Jharkhand Ke Parmukh Sthan)

झारखंड के प्रमुख स्थानों में राँची, बोकारो, धनबाद, हजारीबाग, और देवघर शामिल हैं। झारखंड राज्य की राजधानी राँची है, और यहां के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्थल पर्यटकों को खींचते हैं। बोकारो कोयला और इंधन के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है, जबकि धनबाद कोयला की खनन में अपनी पहचान रखता है। हजारीबाग और देवघर धार्मिक तथा पर्वतीय स्थल के रूप में लोकप्रिय हैं। देवघर में हरेक साल लाखों भक्त शिव भगवन के दर्शन के लिए जाते हैं,जिसे बोलबम के नाम से जाना जाता हैं.

झारखंड के खेल

झारखंड राज्य खेल के क्षेत्र में भी किसी से कम नही है। यहां के लोग कई प्रकार के खेल और खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करते हैं। खेल और खिलाड़ियों के लिए एक उत्कृष्ट ट्रेनिंग संस्थान भी है। यहां से कई खिलाड़ी विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेकर अपने राज्य का नाम रोशन करते हैं। जैसे में पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी झारखंड के रांची के रहने वालें हैं.

ये भी पढ़े- पलामू का किला किसने बनवाया था? Palamu ka Kila Kisne Banwaya tha?

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment